Netiquettes क्या होता है – What Is Netiquettes in Hindi

Netiquettes in Hindi: इस खण्ड में हम यह जानते हैं कि नेट शिष्टाचार क्या है? (What is net etiquette in Hindi?) तथा क्या – क्या बात हैं जो हमे नेट प्रयोग करते समय ध्यान में रखनी चाहिए?

नेट शिष्टाचार

हम अपने समाज में लोगों से बात-चीत करते हैं, उनसे विभिन्न विषयों पर चर्चा करते हैं तथा पारम्परिक विधि से पत्र-व्यवहार करते हैं। यह किसी भी समाज की सर्वाधिक सामान्य घटना है। क्या हम लोग उपरोक्त घटनाओं में संलिप्त होते समय कछ विशेष आचार-संहिता (code of conduct) का पालन करते हैं? अवश्य करते हैं फिर जब हम एक ही क्षेत्र के लोगों के साथ, एक संस्कृति के लोगों के साथ आचार-संहिता का ध्यान रखते हैं तब इन्टरनेट पर जहाँ हम विभिन्न देश, विभिन्न जाति, विभिन्न धर्म, विभिन्न संस्कृति, विभिन्न सभ्यता तथा विभिन्न मानसिकता वाले लोगों के साथ बात-चीत करते हैं, उनसे पत्र-व्यवहार करते हैं तथा उनसे चर्चा करते हैं तो हमें आचार-संहिता की अधिक आवश्यकता होती है। इन आचार-संहिता को ही हम नेटिकेट (netiquette) या नेट एटिकेट (Net Etiquette) कहते हैं। इनका पालन करते हुए हम सभ्य नेट यूजर की सूची में सम्मिलित हो जाते हैं। 

Net Etiquette In Hindi

इनमें से कुछ शिष्टाचार (etiquette) निम्नलिखित हैं:–

  • भड़कीली भाषा का प्रयोग न करें (Don’t use flaming language)
  • व्यंगयोक्ति को परख लें (Check the sarcasm)
  • अपनी पहचान गलत न बतायें (Do not misinterpret your identification)
  • तुच्छ संदेश न भेजें (Don’t use mean messages)
  • ध्यान में रखें आपका ऑनलाइन साथी व्यक्ति है कम्प्यूटर नहीं 
  • बड़े अक्षरो का प्रयोग यथासम्भव कम करें (Use capital letter’s very rarely)
  • भेजने से पहले गलतियाँ जाँच लें (Check errors before sending)
  • नियमों को जाने तथा इसका पालन करें (Learn the rules and abide by them)
  • दूसरे के प्रकाशनाधिकार का अतिक्रमण न करें (Do not infringe over Copyrights)

1. भड़कीली भाषा का प्रयोग न करें (Don’t use flaming language)

संदेश भेजने के समय इसका अवश्य ख्याल रखें कि आपकी भाषा कटु आलोचनात्मक तथा भद्दी न हो। कुछ यूजर्स के संदेश में सूचना कम तथा इस प्रकार की चीजें अधिक रहती हैं।

2. व्यंगयोक्ति को परख लें (Check the sarcasm)

आप जब आमने-सामने व्यक्ति से बातें करते हैं तो आपके शरीर की भाषा (body language) तथा चेहरे के भाव (facial expression) आपके वाक्यों तथा शब्दों के भाव को बिल्कुल स्पष्ट करते हैं। इसके बिल्कुल भिन्न, जब आप नेट पर बात करते हैं या ई-मेल भेज रहे होते हैं तो आप अपने विचारों को टेक्स्ट और ग्राफिक्स की सहायता से प्रकट कर रहे होते हैं। इसलिए आवश्यक रूप से इस बात का ध्यान रखें कि यदि आपका उद्देश्य व्यंगात्मक है तो यह बिल्कुल स्पष्ट हो। इसके लिए, आप स्माइलियों (smileys) का प्रयोग कर सकते हैं।

3. अपनी पहचान गलत न बतायें (Do not misinterpret your identification)

अपनी झूठी पहचान देकर अपने दूसरे नेट मित्रों को गुमराह न करें। यह अनैतिक होने के साथ ही गैर कानूनी भी है। हाँ यदि आप चाहें तो अपना उपनाम रख सकते हैं। इससे आपकी पहचान पूरी तरह खुलेगी भी नहीं और न ही आपकी अपनी पहचान को गलत तरीके से प्रस्तुत करने का अवसर मिलेगा।

4. तुच्छ संदेश न भेजें (Don’t use mean messages)

ऐसे संदेश न भेजें जिसका कोई अर्थ न हो या फिर इसका कोई मानक न हो । तुच्छ संदेश भेजने से बेहतर है कि आप संदेश भेजें ही ना ।

5. ध्यान में रखें आपका ऑनलाइन साथी व्यक्ति है कम्प्यूटर नहीं (Keep in mind, your counter part online is a person not a computer)

यह पूरी तरह से ध्यान रखें कि आपका प्रतिपक्ष (counterpart) कम्प्यूटर नहीं है बल्कि कोई व्यक्ति है जिसकी अपनी भावनाएँ (sentiments) हैं अर्थात् आप जिस प्रकार के संदेश संचारित करें वह बिल्कुल नपे तुले (measures) हो।

6. बड़े अक्षरो का प्रयोग यथासम्भव कम करें (Use capital letter’s very rarely)

चैट करते समय या ई-मेल लिखते समय इस बात का पूरा ख्याल रखें कि आप कहाँ पर किस प्रकार के अक्षर का प्रयोग कर रहे हैं। बड़े अक्षरों का प्रयोग आक्रामक (offensive) समझा जाता है। यह असभ्यता तथा कुसंस्कृति का भी परिचायक है। बड़े अक्षर का प्रयोग व्यक्त करता है कि आप चिल्ला रहे हों। इसलिए इसमें बिल्कुल सावधानी बरतें। शब्द या वाक्य पर बल (emphasis) देने के लिए उसे उद्वरण चिन्ह (quotation mark) में लिखें।

7. भेजने से पहले गलतियाँ जाँच लें (Check errors before sending)

गलतियों से भरा हुआ संदेश प्राप्तकर्ता के लिए कष्टकर तो होता ही है साथ यह आपके व्यक्तित्व को गैर जिम्मेदार के रूप से उभारता है। अतः इससे पहले कि आप इसे भेजें, इसमें वर्तनी तथा व्याकरण की जाँच भली-भाँति कर लें।

8. नियमों को जाने तथा इसका पालन करें (Learn the rules and abide by them)

विशेषकर न्यूजग्रुप, मेलिंग लिस्ट, विभिन्न चैट रूमों तथा विभिन्न चैनलों के कुछ नियम होते हैं। ये नियम आप इसमें सम्मिलित होने के समय प्राप्त कर सकते हैं। इसे जानने के बाद आप बगैर किसी रूकावट के अपने कार्य को जारी रख सकते हैं। इसका पालन न करने पर आपको चर्चा से निष्कासित भी किया जा सकता है।

9. दूसरे के प्रकाशनाधिकार का अतिक्रमण न करें (Do not infringe over Copyrights)

कभी भी वैसे तथ्य (material) को पोलिंग लिस्ट या न्यूजग्रुप को न भेजें जिसका प्रकाशनाधिकार दूसरों के अधीन है। ऐसा करना एक तरह से अनैतिक है तथा साथ ही एक बहुत बड़ा जुर्म भी है। ऐसा करने से पहले आप इसके लेखक या प्रकाशक से आवश्यक रूप से आज्ञा लिखित रूप में ले लें।

नेट शिष्टाचार और अच्छे से समझने के लिए आप यह sugested youtube video जरूर देखे:-

This suggested Video is Embedded From SAANVI TECH-EDU Youtube Channel

आशा करता हूं कि यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट पर अपना प्यार कमेंट (comment) के रूप में जरूर दें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *